Sunday, July 26, 2009

सोनू का सावन झूला


सोनू के साथ मेरे को भी झूला झूलने का बहुत शौक है। हमारे घर के पास में ही गार्डन है। हम लोग वहां पर जाकर दिन भर मस्ती करते हैं। खासकर संडे के दिन तो हमारे मजे रहते हैं। सोनू तो झूले का इतना दीवाना है कि कहीं भी झूला झूलने लगता है। हम लोग घर की छत पर गए तो नल के पाइप को ही झूला बनाकर झूलने लग गया ये बंदर।

3 comments:

रंजन said...

प्यारे बंदर.. झुल झुल..

प्यार.

सैयद | Syed said...

वाह !! मैं भी बचपन में ऐसा ही करता था... छत पर नल के पाइप पर झूला झूलता था...

"लोकेन्द्र" said...

वाह प्यारे अब तो हमें भी आपके साथ झूलने का मन करने लगा...... सावन जो है.......

हिन्दी में लिखें