Saturday, August 15, 2009

हमें तो आता है राष्ट्रगान

आज मेरे पापा राजकुमार ग्वालानी ने अपने ब्लाग में राजतंत्र में पूछा है कि क्या आपको राष्ट्रगान आता है। अब इससे पहले की कोई राजतंत्र में बताए हम अपने ब्लाग में ही लिख के बता रहे हैं कि हमें तो आता है राष्ट्रगान
आईये हम सब मिलकर इसे गाएं और तिरंगा फहराएं

जन-गण मन अधिनायक जय हे। भारत भाग्य विधाता।।

पंजाब सिंध गुजरात मराठा। द्राविड़ उत्कल बंगा।।

विन्ध्य हिमाचल यमुना गंगा। उच्छल जलधि तरंगा।।

तव शुभ नामे जागे। तव शुभ आशिष मांगे।।

गाहे तव जय गाथा। जन-गण मंगल दायक जय हे।।

भारत भाग्य विधाता।।

जय हे ! जय हे! जय हे!!!

जय, जय, जय, जय हे।।

1 comment:

समयचक्र : महेन्द्र मिश्र said...

achchi baat hai.
स्वतंत्रता दिवस के पावन पर्व पर हार्दिक शुभकामना.

हिन्दी में लिखें