Saturday, August 22, 2009

हमारे घर भी आएंगे गणेशा


कल का दिन गणेश जी का है। पूरे देश में गणपति विराजमान होंगे। हमारे घर में भी गणेशा का आगमन होगा। मैंने और मेरे भाई सोनू ने पापा से कहकर पिछले साल से ही गणेशा को अपने घर पर बुलाया है। इस साल अब गणेशा को रखने के लिए हमने आज तैयारी प्रारंभ कर दी है। हमारे स्कूल की अभी तीन दिनों की छूटी लगी है। ऐसे में मैं और सोनू मम्मी के साथ मिलकर गणेशा को रखने के स्थान की सजावट करने में लग रहे हैं। गणेशा के हमारे यहां विराजमान होते ही मैं सबको बताऊंगी कि हमने कैसा गणेशा रखा है। गणेशा को हमने अपने घर में इसलिए बिठाने का फैसला किया है, ताकि सदा हमारे घर में सुख, शांति रहे। हम सब हमेशा प्यार से रहना चाहते हैं।

6 comments:

महेन्द्र मिश्र समयचक्र said...

देवा हो देवा गणपति देवा तुमसे बढ़कर कौन ॐ गणेशाय नमः

हिन्दी साहित्य मंच said...

ॐ गणेशाय नमः

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

जय गणेशा! जय जय गणेशा!!!
आपका धर में गणपति आएं और हमेशा के लिए वहीं आपके साथ ही रहने लगें.......

रंजन said...

पर परिक्षाओं का क्या हुआ?

Udan Tashtari said...

ॐ गणेशाय नमः

अजय कुमार झा said...

चलिए जी फिर तो कल से शुरू हो जाइए ..गणपति बाप्पा मोरिया ..अगले बरस तू लौ कर या..ओह आपने तो हमारे उन दिनों की याद ताज़ा कर दी

हिन्दी में लिखें