Saturday, August 1, 2009

सोनू के साथ खल्लारी यात्रा




मेरा भाई सोनू और मम्मी-पापा के साथ मम्मी की एक सहेली और उनके बेटे बिट्टू के अलावा मेरी एक सहेली ईशिका के साथ हम लोग खल्लारी गए थे। पहाड़ी के ऊपर मंदिर का रास्ता हम सभी बच्चों से हंसते और दौड़ते -भागते तय किया। सबसे पहले सोनू ही ऊपर पहुंचा।

2 comments:

रंजन said...

खल्लारी है कहाँ? और क्या मजे किये?

Anil Pusadkar said...

खूब मज़ा लिया होगा।है ना।जै खल्लारी मैया।

हिन्दी में लिखें