Sunday, November 22, 2009

राजीव तनेजा अंकल ने मेरे पापा को क्या बना दिया


अचानक पापा के कम्प्यूटर में मैंने एक फोटो देखी। फोटो में पापा एक लड़की के साथ शूट में खड़े हैं। मैंने सोचा मेरे पापा कब से फिल्मों में काम करने लग गए और ये चुडैल कौन है? जो मेरी मम्मी के स्थान पर पापा के साथ खड़ी है। पापा से पूछा तो पापा ने बताया कि बेटा ये तेरे पापा नहीं है, ये तो राजीव तनेजा अंकल के ब्लाग में किया गया कमाल है। यह जानकर मुझे अच्छा लगा कि चलो पापा न तो किसी फिल्म में काम कर रहे हैं और न ही मेरे मम्मी के स्थान पर कोई और है।

10 comments:

राजीव तनेजा said...

पहले तो मैँ आपके पापा का शुक्रिया अदा करना चाहूँगा कि उन्होंने मेरी बनाई फोटो को अपने कम्प्यूटर में सहेज के रखा है...उसके बाद आपको भी धन्यवाद देना चाहूँगा कि आपने मेरे लिए एक स्पैशल पोस्ट लिखी

राजीव तनेजा said...

और हाँ आज और हर रविवार को http://hansterahohansateraho.blogspot.com/
पर नई पहेली पोस्ट होगी...उसे तथा उस से पहले की पहेलियों को देखने के लिए एक बार ज़रूर पधारें...

आपकी अमूल्य टिप्पणियाँ मेरे लिए वरदान से भी बढकर हैँ

अजय कुमार झा said...

बेटा तनेजा जी ने कई पापाओं को हीरो बना दिया है .....

संगीता पुरी said...

पर यह जानकर तुम्‍हें अच्‍छा क्‍यूं लगा कि न तो पापा किसी फिल्‍मों में काम कर रहे हैं और न ही किसी दूसरी औरत के साथ खडे हैं .. फिल्‍मों से तुम्‍हें इतनी चिढ है क्‍या ??

swapnil said...

संगीता आंटी जी,
फिल्में तो मुझे बहुत पसंद हैं। हम लोग फिल्में लगातार देखते हैं। लेकिन मुझे यह पसंद नहीं है कि कोई भी औरत मेरे पापा के साथ खड़े रहे। मेरे पापा के साथ खड़े रहने पहला और अंतिम अधिकार मेरी मम्मी का है। फिल्मों में काम करने वाले हीरो क्या करते हैं यह खबर पढऩे को मिलते रहती हैं ऐसे में कौन बच्चा चाहेगा कि उसके पापा फिल्मों में काम करें।

swapnil said...

संगीता आंटी जी,
फिल्में तो मुझे बहुत पसंद हैं। हम लोग फिल्में लगातार देखते हैं। लेकिन मुझे यह पसंद नहीं है कि कोई भी औरत मेरे पापा के साथ खड़े रहे। मेरे पापा के साथ खड़े रहने का पहला और अंतिम अधिकार मेरी मम्मी का है। फिल्मों में काम करने वाले हीरो क्या करते हैं यह खबर पढऩे को मिलते रहती हैं ऐसे में कौन बच्चा चाहेगा कि उसके पापा फिल्मों में काम करें।

रंजन said...

बेटा पक्का न पापा तुम्हें बना नहीं रहें.. हमें तो तस्वीर दिखा कर पुछ रहे थे कि कैसा लग रहा हूँ इस सुट मैं..:)

टेंशन नहीं लेने का.. पापा का ध्यान रखने का..

प्यार..

राज भाटिय़ा said...

अरे बच्चे ऎसी बाते नही करते बेटा, अभी तुम छोटी हो मन लगा कर पढॊ, पापा की देख भाल करने के लिये आप की ममी जो है, चलो मम्मी को दिखाओ यह चित्र , ओर फ़िर चुप चाप मजे तो .....:) अरे लेकिन हंसना नही ओर कुछ बताना नही बस

महफूज़ अली said...

beta.... mummy ne papa se jhagda to nahi kiya na? papa ki koi galti nahi hai....

Udan Tashtari said...

तनेजा अंकल ऐसा ही करते हैं बेटा..चलो, हम लोग उनसे बात नहीं करेंगे जब तक की वो आपको टॉफी लाकर नहीं दे्ते.

हिन्दी में लिखें